नमस्कार दोस्तों इस Article के माध्यम से हम आपको उत्तराखंड के हरिद्वार महाकुम्भ के बारे में बताने वाले है। जिसमे महाकुम्भ की पौराणिक कथा का वर्णन किया हुआ है। “Haridwar Mahakumbh 2021” की पूरी जानकारी के लिए इस आर्टिकल को अंत तक जरुर पढ़े।

महाकुम्भ हिन्दू धर्म का एक महत्वपूर्ण पर्व है। कुम्भ का अर्थ होता है कलश जिसकी पौराणिक कथा सीधे समुद्र मंथन से जुडी है। वैसे तो कुम्भ मेले का स्नान मकर सक्रांति से प्रारम्भ हो जाता है। जब सूर्य और चन्द्रमा वृश्चिक राशि में और ब्रहस्पति मेष राशि में प्रवेश करते है। मकर सक्रांति के होने वाले इस योग को ही कुम्भ स्नान योग कहते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *