Top 10 Places to Visit in Rishikesh in Hindi | ऋषिकेश के 10 प्रमुख पर्यटन स्थल?

Top 10 Places to Visit in Rishikesh in Hindi  ऋषिकेश भारत के उत्तराखंड राज्य के देहरादून जिले में स्थित है. गढ़वाल हिमालय पर्वत की तलहटी में समुन्द्रतल से 409 मीटर की ऊँचाई पर स्थित और शिवालिक रेंज से घिरा हुआ है. हिमालय की पहाड़िया और प्राकर्तिकसौन्दर्यता से ही इस धार्मिक स्थान से बहती गंगा नदी ऋषिकेश को अतुल्य बनाती है.  ऋषिकेश का शांत वातावरण कई विख्यात आश्रमों का घर है.  हर साल ऋषिकेश के आश्रमों में भारी  संख्या में तीर्थयात्री मन की शांति के लिए आते है.  वशिष्ठ गुफा , लक्ष्मण झूला और नीलकंठ मंदिर आदि ऋषिकेश के स्थलों में से एक है ऋषिकेश दो शब्दों के संयोजन से बना है , “ऋषिक” और “एश”,  “ऋषिक” का अर्थ है “इन्द्रिया” और “एश” का अर्थ है “भगवान या गुरु”। आजादी के बाद ऋषिकेश को पवित्र हिन्दू शहर के रूप में घोषित कर दिया गया।

ऋषिकेश को चार धाम केदारनाथ, बद्रीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री का प्रवेशद्वार कहा जाता है. ऋषिकेश को चार धाम केदारनाथ, बद्रीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री का प्रवेशद्वार कहा जाता है। इस आर्टिकल में हम आपको Top 10 Places to Visit in Rishikesh in Hindi के बारे में बताने जा रहे है।

ऋषिकेश में घूमने के लिए 10 सर्वश्रेष्ठ स्थान (Top 10 places to visit in Rishikesh in Hindi)

1. लक्ष्मण झूला (Lakshman Jhula Rishikesh)

लक्ष्मण झूला गंगा नदी के ऊपर बना एक प्रसिद्ध हैंगिंग ब्रिज है जो टिहरी गढ़वाल जिले के तपोवन और पौड़ी गढ़वाल जिले के जोंक को जोड़ता है। लक्ष्मण झूला ऋषिकेश शहर के उत्तर-पूर्व में 5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। पूरा पुल लोहे से बना हुआ है और यह 450 फीट लंबा है और गंगा नदी से 70 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। ऋषिकेश के पर्यटन स्थलों में लक्ष्मण झूला पर्यटकों के बीच बहुत प्रसिद्ध है। माना जाता है कि भगवान राम के छोटे भाई भगवान लक्ष्मण ने इस स्थान पर गंगा नदी को पार किया था।

2. राम झूला (Ram Jhula Rishikesh)

इस पुल का निर्माण 1986 में उत्तेर प्रदेश सरकार द्वारा करवाया गया था। 750 फुट लम्बा यह पुल गंगा नदी के ऊपर झूलता है. जो गोमुख से निकलकर पर्वतो के बिच से बहती हुई ऋषिकेश के समुद्र तल यानि धरती को स्पर्श करती है. इस पुल को लोहे की मजबूत तारो से जकड़ा गया था. ऋषिकेश में घूमने आये प्रयटक यहां पर जरूर आते है. और इस पूल से माँ गंगा के सूंदर दृश्ये का अधभुध नजारा देखते है. इस पूल का संपर्क शिवानंद आश्रम, गीता भवन, परमार्थ निकेतन और स्वर्गाश्रम से जुड़ा है। राम झूला पूल लक्ष्मण झूला पूल से काफी बड़ा है. रात के समय रंग बिरंगी चमचमाती लाइट के साथ पूल का नज़ारा अलग ही देखने को मिलता है।

3. त्रिवेणी घाट (Triveni Ghat Rishikesh)

गंगा नदी के तट पर स्थित त्रिवेणी घाट तीन पवित्र नदियों-गंगा, यमुना और सरस्वती के संगम का स्थान है। इन नदियों को हिंदू धर्म में असाधारण रूप से पवित्र और शुद्ध माना जाता है। मान्यता है कि त्रिवेणी घाट किनारे पवित्र जल में डुबकी लगाने से व्यक्ति का अंतर्मन शुद्ध हो जाता है सभी पापों, चिंताओं और भय से मुक्ति मिल जाती है। त्रिवेणी घाट गंगा नदी के किनारे एक भीड़-भाड़ वाला घाट है, जिसमें तीर्थयात्री चारों ओर स्नान करते हैं। इस घाट पर शाम की आरती के दौरान अद्भुत नजारा दीखता है जो शांति प्रदान करता है।

4. रिवर राफ्टिंग (River Rafting in Rishikesh)

अगर आपको एडवेंचर पसंद है और आप कुछ हटकर आनंद लेना चाहते हैं तो आप ऋषिकेश में राफ्टिंग का लुत्फ उठा सकते हैं। ऋषिकेश में विशेषरूप से राफ्टिंग के लिए भारी संख्या में पर्यटक आते हैं। यहां कुछ सर्टिफाइड ऑपरेटर हैं, जो राफ्टिंग के लिए अच्छी सुरक्षा व्यवस्था उपलब्ध कराते हैं और ऋषिकेश में कैंपिंग और राफ्टिंग के लिए अनुकूलित पैकेज भी है। यदि आप स्ट्रेस फ्री आउटिंग चाहते हैं तो आपके भोजन, पानी और राफ्टिंग की व्यवस्था संचालकों द्वारा की जाती है। यदि आप स्वंय व्यवस्था करना चाहते हैं तो उसका भी विकल्प मौजूद है। पीक सीजन में ऋषिकेश में राफ्टिंग के लिए काफी भीड़ देखी होती है।

5. स्वर्ग आश्रम (Swarg Ashram Rishikesh)

स्वर्ग आश्रम को स्वामी विशुद्धानंद की याद में बनवाया गया था। यह एक आध्यात्मिक आश्रम है, जिसे काली कमली वाला के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि वे हमेशा काले रंग का कम्बल पहने रहते थे। राम झूला और लक्ष्मण झूला के बीच स्थित, भारत का यह सबसे पुराना आश्रम है और ऋषिकेश के महत्वपूर्ण पर्यटन स्थलों में से एक है।

6. भरत मंदिर (Bharat Mandir Rishikesh)

भगवान् राम के अनुज भरत जी को समर्पित यह मंदिर ऋषिकेश के प्राचीन एवं प्रसिद्द मंदिरो में से एक है. हर साल यह पर लाखो की संख्या में भक्त दर्शन करते है. ऐसा कहते है की अक्षय तृतीया के पावन शुभ अवसर पर, जो भी भक्त भरत मंदिर की 108 परिक्रमा करता है, तो उसे बद्रीनाथ धाम के दर्शनों के समान ही फल मिलता है. मंदिर के मुख्य गर्भगृह में भगवान विष्णु के दर्शन करने का सौभाग्य प्राप्त होता है।

7. तेरह मंज़िल मंदिर (Tera Manzil Temple /Tryambakeshwar Temple Rishikesh)

13 मंजिलो से बना यह विशाल मंदिर लक्ष्मण झूला पास में ही स्थित है। जिसको त्रिंबकेश्वर मंदिर भी कहा जाता है. इस मंदिर की प्रत्येक मंजिल पर देवी-देवताओं की प्रतिमा स्थित है. ऋषिकेश में आने वाले सभी पर्यटक यहा की 13 मंजिल तक पहुंचते है जहा से माँ गंगा का सौंदर्य दृश्य दिखाई देता है।

8. परमार्थ निकेतन (Parmarth Niketan Rishikesh)

गंगा के किनारे पर स्थित परमार्थ निकेतन एक बहुत ही सुंदर और भव्य आश्रम है यहां पर होने वाली भव्य गंगा आरती काफी प्रसिद्ध है. लाखो की संख्या पर्यटक इस गंगा आरती में शामिल होते है।

9. कुंजापुरी देवी मंदिर (Kunjapuri Devi Temple Rishikesh)

माँ कुन्जापुरी देवी का यह मंदिर उत्तराखंड राज्य के टिहरी जिले में स्थित है | हिन्दुओं का यह प्राचीन मंदिर देवी के 51 शक्ति पीठों में से एक है ऋषिकेश से 25 km दूर और समुद्र तल से 1,676 मीटर की उंचाई पर स्थित यह मदिर कुंजापुरी देवी , सुरकंडा देवी, और चंद्रभद्दी देवी इन तीन सिद्ध पिठों के त्रिकोण को भी पूरा करता है।
शिवालिक पहाड़ियों की छोटी पर स्थित इस मंदिर से गंगोत्री, बंदरपूंछ, स्वर्गारोहिणी, चैखंबा, सूर्योदय और सूर्यास्त का बहुत ही सुन्दर दृश्य देखने को मिलता है।

मंदिर के मुख्य पुजारी होशियार सिंह भंडारी ने बताया कि इस स्थान पर माता सती देवी का हाथ (कुंज) गिरा था इसीलिए यह मंदिर को कुंजापुरी के नाम से जाना जाता है । चौकाने वाली बात तो यह है की इस मंदिर के गर्भगृह में देवी की कोई मूर्ति स्थापित नहीं है। बल्कि अन्दर एक शिलारूप पिण्डी स्थापित है। उस पिंडी के निचे एक अखंड ज्योति जलती रहती है।

10. नीलकंठ महादेव मंदिर (Neelkanth Mahadev Temple Rishikesh)

नीलकंठ महादेव मंदिर ऋषिकेश शहर से 12 किमी दूर स्थित है। यह मंदिर सिल्वन वन के बीच 1670 मीटर में स्थित है।यह भारत के सबसे पवित्र शिव मंदिरों में से एक है और ऋषिकेश में देखने के लिए सबसे अच्छे धार्मिक स्थलों में से एक है। यह मंदिर समुद्रमंथन की गाथा को दर्शाता है। मंदिर में एक ताजे पानी का झरना भी है जिसमें भक्त स्नान करके मंदिर में पूजा करने के लिए जाते हैं।

ऋषिकेश की यात्रा कैसे करें (How to visit in Rishikesh)

यहा का सबसे निकटतम हवाई अड्डा जॉली ग्रांट एयरपोर्ट देहरादून है जो ऋषिकेश से 35 किमी की दूरी पर है। आप दिल्ली या लखनऊ से हवाई यात्रा करके यहां पहुंच सकते हैं इसके बाद देहरादून से बस के जरिए ऋषिकेश जा सकते हैं। इसके अलावा हरिद्वार, देहरादून और नई दिल्ली से बस के माध्यम से भी ऋषिकेश जाया जा सकता है। इन स्थानों से ऋषिकेश के लिए रोजाना बसें चलती हैं।

यहा का सबसे निकटतम रेलवे स्टेशन ऋषिकेश और हरिद्वार है जो इससे 25 किलोमीटर की दूरी पर है। यह स्टेशन मुंबई, दिल्ली, कोलकाता, लखनऊ और वाराणसी से रेलमार्ग द्वारा जुड़ा है। आप शताब्दी, जनशताब्दी, मसूरी एक्सप्रेस जैसी विभिन्न ट्रेनों के माध्यम से हरिद्वार पहुंचकर फिर वहां से बस या टैक्सी द्वारा ऋषिकेश जा सकते हैं।

ऋषिकेश के बारे में महत्वपूर्ण बाते (Important facts about Rishikesh)

ऋषिकेश क्यों जाएँ: राफ्टिंग, साहसिक खेल, प्राकृतिक सौंदर्य, मंदिर

आदर्श: सप्ताहांत गंतव्य, मित्र, परिवार

सामान्य ज्ञान: ऋषिकेश भगवान विष्णु का नाम है जिसका अर्थ है ‘संवेदना के भगवान’

लाने के लिए चीजें: बोहो कपड़े, ऊनी वस्त्र, प्रार्थना की घंटियां, हिंदू देवताओं की पीतल की मूर्तियां, खादी और रेशम साड़ी, हस्तशिल्प

यात्रा का सबसे अच्छा समय: पूरे साल, राफ्टिंग के लिए सबसे अच्छा समय सितंबर के अंत में है – मध्य नवंबर और फरवरी – मई

हम उम्मीद करते है की आपको Top 10 Places to Visit in Rishikesh in Hindi के बारे में पढ़कर अच्छा लगा होगा आपकी यात्रा मंगलमय हो।

अगर आप नीलकंठ महादेव मंदिर के बारे में पूरी जानकारी चाहते है तो नीचे दिए गए Link पर Click करे।

धार्मिक और पर्यटक स्थलो की और अधिक जानकारी के लिए आप हमारे You Tube Channel PUBLIC GUIDE TIPS को जरुर “SUBSCRIBE” करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *