Global Vipassana Pagoda Mumbai: भारत के प्रमुख नगर मुंबई के बोरीवली गोराई बिच के पास स्थित एक विपस्सना का ध्यान केंद्र है जो की गौतम बुद्ध के विचारों और ज्ञान का प्रसार कर रहा है। यह विश्व का सबसे बड़ा ध्यान केंद्र है. इस आर्टिकल में हम आपको Global Vipassana Pagoda Mumbai का इतिहास और पैगोडा से जुडी कुछ महत्वपूर्ण बाते बताने वाले वाले है।  

ग्लोबल विपश्यना पैगोडा का इतिहास (Global Vipassana Pagoda History in Hindi)

8 फ़रवरी 2009 में भारत की तत्कालीन राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल ने पैगोडा का उद्घाटन किया था ग्लोबल विपश्यना पैगोडा को बनने में लगभग आठ साल लगे। इसके निर्माण की योजना 1997 में शुरू हुई, प्राथमिक संरचना पर वास्तविक काम 2000 में शुरू हुआ और 2008 तक समाप्त हो गया। हालांकि, पैगोडा परिसर आज भी निर्माणाधीन है भविष्य में इसे जल्दी ही पूरा करने की उम्मीद है। 

यंगून, म्यांमार में श्वेदागोन पैगोडा के बाद , ग्लोबल विपश्यना पैगोडा असली सोने में ढंके हुए हैं और म्यांमार द्वारा दान किए गए एक सजावटी छाता के साथ सबसे ऊपर है। म्यांमार में संरचना के लिए लकड़ी के मुख्य दरवाजे भी हाथ से बनाए गए थे, जबकि मुख्य निर्माण की सामग्री राजस्थान से लाई गई बलुआ पत्थर की थी। पैगोडा का निर्माण प्राचीन भारतीय और आधुनिक तकनीक का बेहतरीन मिश्रण है, जो इसे एक हजार साल तक चलने के लिए तैयार करता है।

गौतम बुद्ध और उनके बुद्धिमान सबक का सम्मान करने के लिए इस सुंदर स्मारक को बनाया गया था। इस पैगोडा में बिना पिलर का एक केंद्रीय हॉल है इस हॉल में 8,000 लोग एक साथ बैठ कर अपना ध्यान लगा सकते हैं, यह विश्व का सबसे बड़ा पगोड़ा माना जाता है जो की 294 फुट उचा और 61,300 वर्गफुट क्षेत्र में फैला हुआ है पगोड़ा के इस केंद्रए हॉल में गुंबद की छत 86 फुट ऊंची है जिसमे बुद्ध के अवशेष रखे हुए हैं जो उनकी शिक्षाओं को निरंतर सीखने के लिए प्रोत्साहित करते है। जहां शिवालय भारत में बुद्ध की शिक्षाओं के पुन: जागरण का प्रतीक है, वहीं यह म्यांमार को अपने जीवन के पाठों को संरक्षित करने के लिए धन्यवाद की अभिव्यक्ति भी है।

ग्लोबल विपश्यना पैगोडा की कुछ महत्वपूर्ण जानकारी (Global Vipassana Pagoda Story in Hindi)

ग्लोबल विपश्यना पैगोडा एक बौद्ध ध्यान हॉल है। जो मुंबई में गोराई क्रीक और अरब सागर के बीच एक प्रायद्वीप पर स्थित है। हॉल को विश्व शांति और सद्भाव के प्रतीक के रूप में बनाया गया है यह दुनिया का सबसे बड़ा पैगोडा है, जिसमें कोई सहायक स्तंभ नहीं है।

इसकी नींव बेसाल्ट की है जबकि राजस्थान से खरीदे गए सैंडस्टोन से पैगोडा बनाया गया है। पैगोडा को प्राचीन भारतीय और आधुनिक तकनीक का उपयोग करके बनाया गया है ताकि इसे सदियों तक खड़ा किया जा सके। बलुआ पत्थर के खंडों को ऐसे व्यवस्थित किया जाता है कि यह आसन्न ब्लॉक को चूने के मोर्टार से भरे स्थान के साथ पूरी तरह से फिट बैठता है। पैगोडा के सर्पिल को शीर्ष पर एक छाता के साथ सोना चढ़ाया जाता है, जिसे बर्मीज़ द्वारा दान किया गया था।

मुख्य दरवाजे म्यांमार से नक्काशीदार और आयातित हैं. गुंबद बुद्ध के अवशेषों को दर्शाता है जिन्हें भारत की महाबोधि सोसाइटी और श्रीलंका के प्रधान मंत्री द्वारा रखे जाने के लिए दान किया गया था।

पगोडा बुद्ध के उपदेशों को फैलाने के उद्देश्य से बनाया गया है। संरचना म्यांमार के यंगून में श्वेदागन पैगोडा की एक सटीक प्रतिकृति है। पैगोडा का उद्देश्य बर्मा के बाद विपश्यना की प्राचीन प्रथा को संरक्षित करना है और इच्छुक लोगों को ध्यान में रखते हुए नि: शुल्क दस दिवसीय पाठ्यक्रम प्रदान करता है।

स्वर्गीय एसएन के पोते लोकेश गोयनका का कहना है, “गुरुजी ने हमेशा यही कहा कि हमें ‘धर्म’ के लिए कोई मौद्रिक मूल्य नहीं देना चाहिए और इसलिए ग्रैंड विपासना पैगोडा और विपश्यना शिक्षण के लिए यात्रा बिल्कुल मुफ्त है और कोई भी इसमें शामिल हो सकता है।

ग्लोबल विपश्यना पैगोडा का पता और यहां पर कैसे पहुंचे (How  to reach Global Vipassana Pagoda in Hindi)

पता:  ग्लोबल विपासना पैगोडा,

एस्सेलवर्ल्ड के बगल में, गोराई गांव, बोरीवली (पश्चिम), मुंबई 400091

कैसे पहुंचें: ट्रेन से: 25.9 KM दूर बोरीवली रेलवे स्टेशन

हवाई:  41.3 KM दूर छत्रपति शिवाजी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा

बोरीवली रेलवे स्टेशन से आप गोराई बिच के लिए टैक्सी या ऑटो कर सकते है और गोराई बिच से एस्सेलवर्ल्ड की फेरी (नौका) लेकर जाती है जिसका आने जाने का किराया 50 रूपये प्रति व्यक्ति का होता है 

दोस्तों हम उम्मीद करते है कि आपको Global Vipassana Pagoda Mumbai के बारे में पढ़कर आनंद आया होगा जब आप पैगोडा घूमने जाये तो एस्सेलवर्ल्ड भी जरूर जाये, अधिक जानकारी के लिए आप मुंबई के प्रमुख प्रयटक स्थल की पोस्ट भी जरूर पढ़े।

धार्मिक और पर्यटक स्थलो की और अधिक जानकारी के लिए आप हमारे You Tube Channel PUBLIC GUIDE TIPS को जरुर “SUBSCRIBE” करे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.