Uttarakhand Covid-19 Cases : के इस कहर ने पुरे देश को ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया को हिलाकर रख दिया है। इसके मरीज़ों से जुड़े आंकड़े दिन पर दिन इतने भढ़ते जा रहे है, की मोते भी रुकने का नाम ही नहीं ले रही है। कुछ इसी तरह का कहर उत्तराखंड राज्य में भी देखने को मिल रहा है। एक विश्लेषण के मुताबिक उत्तराखंड राज्य में कुल कोरोना के पाए जाने जाने वाले केसों और कुल कोरोना से हुई मौतों का सिर्फ 50 फीसदी आंकड़ा पिछले 40 दिनों में सामने निकलकर आया है।

आखिर में क्यों कोरोना से हो रही है इतनी मौत?

तो दूसरी तरफ इस बार गांव में भी कोरोना का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। वही मीडिया ने जब राज्य सरकार से कोरोना की महामारी को रोकने के लिए सवाल पूछे तो सरकार ने अपने बयान में बताया है, कि उत्तराखंड सरकार दिन रात कोरोना को रोकने का काम कर रही है।

जिसके चलते 11 मई से 18 मई तक का पूर्ण लॉकडाउन किया गया है। जिसमे कुछ मत्वपूर्ण दुकानों को सुबह 07 से सुबह 10 तक ही खोलने की अनुमति दी जाएगी। 10 बजे के बाद कोई भी व्यक्ति अगर बिना वजह के घूमता हुआ दिखाई देखा, तो उसका चालान कर दिया जायेगा। और और दूसरे राज्यों से आने वाले व्यक्तियो को बिना किसी वजह के उत्तराखंड राज्य में एंट्री नहीं होगी।

फिर भी अगर कोई व्यक्ति किसी महत्वपूर्ण काम के लिए आता है, तो उसको अपनी कोरोना की नेगेटिव रिपोर्ट और उत्तराखंड सरकार का परमिशन पास दिखाना होगा। तभी उत्तराखंड में एंट्री मिलेगी। सरकार ने वार्तालाब में यह भी बताया की गांव में अधिकतर लोग कोरोना को गंभीरता से नहीं ले रहे है। इसके चलते कोरोना से हो रही मौतों का ग्राफ बढ़ने की बड़ी वजह यह भी है। क्योंकि कोरोना से संक्रमित मरीज़ों का समय से अस्पताल न पहुंचना भी एक मुख्य कारण बना हुआ है।

उत्तराखंड राज्य के प्रमुख सचिव ओमप्रकाश ने पत्रकारों से वार्ता करते हुए कहा की बुखार के सामान्य लक्षण दिखने पर ही डॉक्टर के पास तुरंत जाये और उनसे सलाह लें, अपनी हालत बिगड़ने का इंतज़ार न करें।

हम आपको Uttarakhand Covid-19 Cases की जानकारी देते रहेंगे।

Lockdown Extend Latest Update

Leave a Reply

Your email address will not be published.