Bhakra Nagal Dam History in Hindi : भाखड़ा नागल डैम भारत के हिमाचल प्रदेश राज्य में बिलासपुर जिले के भाखड़ा गाँव में स्थित है। सतलुज नदी पर बने इस डैम को गोबिंद सागर भी कहा जाता है। इस डैम में 9.34 बिलियन क्यूबिक मीटर पानी इकठ्ठा होता है। हर साल इस डैम को देखने के लिए लाखो प्रयटक आते है। यह डैम नागल शहर से लगभग 15 km दूर भाखड़ा गाँव में स्थित है। इसीलिए इस डैम को नागल डैम के नाम से जाना जाता है। दुनिया के सबसे ऊंचे गुरुत्वाकर्षण डैम में से एक है नागल डैम, जो की भारत में तीसरे नंबर पर एक सबसे बड़ा जलाशय है। टिहरी डैम के बाद नागल डैम दुनिया का चौथा सबसे बड़ा डैम है। संन 2009 में इस डैम में घूमने के लिए पर्यटकों पर प्रतिबंद लगा दिया था।

अगर आप नागल डैम के बारे में और अधिक जानना चाहते है तो हमारे इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़े क्योकि हमने इस आर्टिकल में नागल डैम की परियोजना, इतिहास और रोचक तथ्यों समेत सभी महत्वपूर्ण जानकारियों के बारे में बताया हुआ है।

Bhakra Nagal Dam History in Hindi भाखड़ा नागल डैम का इतिहास और जानकारी

भाखड़ा नांगल डैम का इतिहास (Bhakra Nagal Dam History in Hindi)

भाखड़ा नांगल डैम के इतिहास के बारे में बात करे तो इस डैम की शरुवात संन 1946 में हुई थी लेकिन वास्तिविक में इसका निर्माण संन 1948 में हुआ था। भारत के प्रधान मंत्री पद पर पंडित जवाहर लाल नेहरू के हाथो से इस डैम की शरुवात कराई गयी जिसमे उन्होंने बजरी कंक्रीट की पहली बाल्टी डाली थी। इस डैम का कार्य लगभग 15 साल तक चला और आखिर में सन 1963 में यह कार्य पूरा हो चूका था। डैम की परियोजना की शुरुवात पंजाब के उपराज्यपाल के द्वारा शुरू की गयी थी परन्तु कुछ कारणों के कारन इस निर्माण को रोक दिया गया था। आखिर जब भारत स्वतंत्रत होने के बाद इस डैम के कार्य को बहुत तेजी से कराया गया था।

भाखड़ा डैम के रोचक तथ्य (Facts About Bhakra Dam in Hindi)

परियोजना (Project) – भाखड़ा डैम को बनाने की परियोजना इसलिए शुरु की थी। क्योकि वहा पर सतलुज नदी होने के कारन आस पास के इलाके में बाढ़ बहुत ज्यादा आती थी। जिसको रोकना बहुत जरुरी था दूसरा जो पास के राज्य थे जैसे हरयाणा, पंजाब, और राजस्थान इनको सिचाई के लिए पानी और बिजली की उपलब्धि करना था। इन सब बातो को मध्य नजर रखते हुए भाखड़ा डैम को बनाने की परियोजना बनायीं गयी थी।

प्रबंधन (Management) – भाखड़ा नांगल डैम का रखरखाव (बीएमबी) यानी भाखड़ा प्रबंधन बोर्ड के द्वारा किया जाता है। वही सन् 15 मई 1976 को इस बोर्ड का नाम बदलकर (बीबीएमबी) यानी भाखड़ा ब्यास प्रबंधन बोर्ड रखा गया था।

भाखड़ा डैम से जुडी कुछ महत्वपूर्ण बाते

  • भाखड़ा डैम का निर्माण वास्तविक में संन 1948 में शुरू होकर संन 1963 में पूरा हुआ था। सन 1970 में यह डैम विधुत और सिचाई के काम में आने लगा था।
  • भाखड़ा डैम में बनी झील का नाम ‘गोविन्द सागर’ है, यह नाम गुरु गोविन्द सिंह के नाम पर रखा गया था। इसीलिए इस डैम को ‘गोविन्द सागर’ के रूप में भी जाना जाता है।
  • इस डैम का निर्माण जब 1963 में पूरा हुआ था तो इस डैम को राष्ट्र को समर्पित कर दिया गया था।
  • भाखड़ा डैम बनाने का जो मुख्य उदेश्य था वो सिचाई और विधुत उत्पाद करके अपने पास वाले राज्यों को सप्लाई करना था। जिसमे हरयाणा, पंजाब, और राजस्थान राज्य शामिल थे।
  • भाखड़ा नांगल डैम लगभग 250 छोटे और बड़े सभी क़स्बों को विधुत और सिचाई का जल प्रदान करता है।
  • भाखड़ा नांगल डैम की कुल जल विद्युत उत्पादन की जो क्षमता है वो 1325 मेगावाट है।
  • इस डैम से दो नेहरे निकली गयी है पहली ‘सरहिंद नहर’ और दूसरी ‘नरवाना शाखा नहर’।

भाखड़ा डैम जाने का सही समय (Best Time To Visit Bhakra Dam in Hindi)

अगर आप हिमाचल प्रदेश में घूमने का प्लान बना रहे है तो दिसंबर से फरवरी तक का महीना सबसे अच्छा है इस दौरान आप भाखड़ा डैम में अच्छे से घूम सकते है और हिमाचल के अन्य पर्यटक स्थल का भी लुफ्त उठा सकते है क्योकि इस समयहिमाचल के कुछ स्थलों पर आपको काफी बर्फबारी देखने को मिलेगी जो यहां की प्रमुखता है इस दौरान यहां पर पर्यटकों की काफी भीड़ भी देखने को मिलेगी। गर्मियों के मौसम में यहां पर घूमना इतना सही नहीं।

यह भी पढ़े – हिमाचल में घूमने की खूबसूरत जगह

भाखड़ा डैम कैसे पहुंचे (How To Reach Bhakra Dam in Hindi)

भाखड़ा डैम आने के लिए सबसे पहले आपको हिमाचल प्रदेश आना होगा जो की सड़क, रेल और हवाई मार्ग से जुड़ा है।

हवाई अड्डा मार्ग (By Air) – अगर आप हवाई जहाज से आना चाहते है तो सबसे पहले आपको चंडीगढ़ ऐरपोट आना होगा वहा से आप बस या टैक्सी से हिमाचल प्रदेश में बिलासपुर जिले के भाखड़ा आना होगा जहा पर भाखड़ा डैम स्थित है।

रेल मार्ग (By Train) – अगर आप रेल से आना चाहते है तो सबसे पहले आपको चंडीगढ़ के रेलवे स्टेशन आना होगा वहा से आप वहा से आप बस, टैक्सी से हिमाचल प्रदेश के भाखड़ा डैम जा सकते है।

सड़क मार्ग (By Road) –अगर आप बस से आना चाहते है तो सबसे पहले आपको चंडीगढ़ के बस स्टैंड आना होगा वहा से आपको हिमाचल के लिए डायरेक्ट बस या टेक्सी मिल जाएगी। जहा से सीधा आप भाखड़ा डैम जा सकते है।

अपनी कार (Personal Vehicle) – आप चाहे तो अपनी कार से भी सीधा भाखड़ा डैम जा सकते है।

यह भी पढ़े – शिमला के 10 प्रमुख पर्यटन स्थल​ जरूर घूमने जाये

दोस्तों हम उम्मीद करते है कि आपको Bhakra Nagal Dam History in Hindi के बारे में पढ़कर अच्छा लगा होगा।

यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आये तो हमारे फेसबुक पेज “PUBLIC GUIDE TIPS” को “LIKE” और “SHARE” जरुर करे।

पर्यटक और धार्मिक स्थलो की और अधिक जानकारी के लिए आप हमारे You Tube Channel PUBLIC GUIDE TIPS को जरुर “SUBSCRIBE” करे।

अगर आप हमे अपना कोई सुझाव देना चाहते है या यात्रा संबधित आपका कोई प्रश्न हो तो नीचे दिए कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें।

FQA:-

Q:- भाखड़ा बांध किस राज्य में है?
A:- भाखड़ा बांध हिमाचल प्रदेश राज्य में बिलासपुर जिले के भाखड़ा गाँव में स्थित है।

Q:- भाखड़ा बांध किस नदी पर स्थित है?
A:- भाखड़ा बांध सतलुज नदी पर स्थित है जिसे सतलज नदी के नाम से भी जाना जाता है।

Q:- भाखड़ा डैम की उचाई कितनी है?
A:- भाखड़ा डैम की उचाई 741 फुट यानी 226 मीटर की है।

Q:- भारत का सबसे ऊचा गुरुत्वीय बांध कौन सा है?
A:- भाखड़ा नागल डैम भारत का सबसे ऊचा गुरुत्वीय डैम है।

Q:- भाखड़ा नागल डैम की परियोजना कब शुरू हुई?
A:- भाखड़ा नांगल डैम को बनाने की परियोजना संन 1946 में शुरू हुई थी, लेकिन वास्तिविक में इसका निर्माण संन 1948 में हुआ था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *